© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Tuesday, February 14, 2012

कुछ शायरियाँ

राज की एक बात कह गए वो छिपाने को मुझसे
"उपेन्द्र" लाख चाहकर भो वो  जिसे वह छिपा न सके थे.  

                             *   *    *

मत दिखाओ मुझे हसीं ख्वाब कोई अभी
" उपेन्द्र" बहुत बाकी है अभी उनके जुल्मों- सितम.

                             *   *    *

उन्हीं की जुल्फ थी उन्हीं का साया भी था
"उपेन्द्र " उन्हीं से हमने अपना चेहरा भी छुपाया था.

                             *   *    *

वो देती  रहीं दस्तक बार बार मेरे दरवाजे पर
" उपेन्द्र" मै समझता रहा ये हवा के थपेड़े होंगे.

                            *   *    *

राज की एक बात थी वह पीछे पड़ गए बताने के लिए.
"उपेन्द्र"  खामोश रहे हम जिसे वर्षों तक छिपाने के लिए.

16 comments:

  1. wah wah kya baat hai har sher kamaal hai

    ReplyDelete
  2. शुरुआत न छिपा पाने से और अंतिम शेर में छिपाने की जिद... उम्दा शेर सभी...

    ReplyDelete
  3. हर शे'र में एक नया अहसास भर दिया है आपने ....अच्छा रहा यह भी .....!

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया आखिरी से पहला शेर खास पसंद आया

    ReplyDelete
  5. Bahut Sundar.. nd the last one is best..

    ReplyDelete
  6. क्या बात है उनकी दस्तक को थपेड़े समझ लिया .. बहुत ही लाजवाब शेर हैं सभी ...

    ReplyDelete
  7. हर शेर लाजवाब और बेमिसाल ..उपेंदर जी

    ReplyDelete
  8. जरूरी कार्यो के ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete
  9. इन्द्रेशJanuary 27, 2013 at 6:06 PM


    उम्दा लाजवाब

    ReplyDelete