© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Sunday, January 8, 2012

जिंदगी

जिन्दगी- सात

कमबख्त
जिन्दगी होने  लगी है
और भी मुश्किल से बसर
जबसे ख्यालों में
वो आजकल 
आने लगे है अक्सर ।।

जिन्दगी- आठ  

दोस्त क्या मिला है
किसको यहाँ
ये तो मुकद्दर
की बात है
वरना जिन्दगी यहाँ है
सिर्फ दो पलों की
एक छोटी सी मुलाकात ।।

जिन्दगी- नौ 

बात जिन्दगी की
वो किये थे
खुद ही शुरू
मगर
जब हम सुनाने लगे
अपनी जिंदगी के हाल
 वो रो दिए थे ।।

जिन्दगी- दस 

जिन्दगी पुरी
गुजर गयी
उस एक जख्म को
सिर्फ सहलाने में
जो दे गए थे वो
पल भर के
मन बहलाने में ।।

                        जिंदगी- एक से छः

.

19 comments:

  1. ज़िंदगी के कितने रूप दिखाए आपने उपेन बाबू!! मगर हर रूप में निराली लगी ये ज़िंदगी!!

    ReplyDelete
  2. वाह ..हर क्षणिका लाजवाब .

    ReplyDelete
  3. बड़े दिनों की अधीर प्रतीक्षा के बाद आज आपका आगमन हुआ है

    बहुत ही सुंदर .....प्रभावित करती बेहतरीन पंक्तियाँ ....

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया |

    ReplyDelete
  5. बढ़िया, जिन्दगी नौ बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  6. ज़िंदगी इन सभी क्षणिकाओं में खुलकर सामने आयी है!! बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  7. 10 जिंदगी के अलग अलग रंग ....बहुत खूब

    ReplyDelete
  8. जिंदगी के गजब के रंग बिखेरे हैं शब्दों मे।


    सादर

    ReplyDelete
  9. कल 10/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. जिंदगी के कुछ खट्टे मीठे पलों को आपने खूबसूरती से शब्दों में कैद कर लिया है।

    ReplyDelete
  11. बढ़िया..बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  12. सुंदर प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सटीक भाव..बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    शुक्रिया ..इतना उम्दा लिखने के लिए !!

    ReplyDelete
  14. मन को बहला कर ही सही, जीवन का आनंद उठाना चाहिए।

    ReplyDelete
  15. वाह सुंदर प्रस्तुति....

    ReplyDelete