© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Wednesday, March 21, 2012

ताकत

           कालेज  का नया सत्र शुरू हो गया था. सीनियर छात्रों द्वारा रैगिंग काफी जोर शोर से ली जा रही थी. एक सीनियर बैच ने तीन छात्रों  को पकड़ा और उनकी रैगिंग शुरू कर दी. दो  छात्र तो उनके कहे अनुसार चालू   हो गये, मगर एक छात्र चुपचाप खड़ा था.
          
            तभी एक सीनियर छात्र ने गुर्राते  हुए कहा , " क्यों बे तेरा बाप मर गया जो शोक मना रहा, चल शुरू हो जा नहीं तो ..."

          " मेरा बाप इस जिले का एस. पी . है ......"

          सीनियर लड़कों की भीड़ छटने लगी थी. रैगिंग  बंद हो चुकी थी और  बाकी के दो जूनियर लड़कों ने भी राहत की साँस ली .



20 comments:

  1. एस.पी की जगह एम.पी होता तो?

    ReplyDelete
  2. आपको नव संवत्सर 2069 की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ----------------------------
    कल 23/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत बढिया ..

    ReplyDelete
  4. हा-हा-हा
    भागे सब दुम दबा के।
    बहुत खूब लिखा है आपने।

    ReplyDelete
  5. :-)

    चोर पे मोर...........
    बढ़िया!!!!

    ReplyDelete
  6. वाह!
    नहले पे दहला!
    नवसम्वतसर-2069 की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  7. पदवी का असर ... बढ़िया रहा ...

    ReplyDelete
  8. लोहार की एक .....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  9. नहले पर दहला।
    जोरदार !

    ReplyDelete
  10. इसे कहते है नहले पे दहला ...
    पावर की हर जगह चलती है ... मजेदार ...

    ReplyDelete
  11. काश कि सबके बाप जिले के एसपी होते....

    ReplyDelete