© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Tuesday, December 21, 2010

इंतजार

चित्र गूगूल साभार

29 comments:

  1. जाने क्यूँ इंतज़ार लंबा क्यूँ होता है...
    पल का गुजरना भी सदियों के गुजरने का भान करता है!
    सुन्दर!

    ReplyDelete
  2. वाह! इंतज़ार ऐसा ही होता है.
    बहुत सुन्दर भाव.

    ReplyDelete
  3. @ अनुप्रिया जी, आभार ,
    .
    आगे ? ...... यही तो इंतजार है. बस इंतजार ही इंतजार.

    ReplyDelete
  4. उस एक पल के इंतज़ार में एक उम्र भी बिता दी जाती है.चित्र में युवती की आँखें जैसे कविता को बोलती प्रतीत होती हैं.
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  5. प्रस्तुति का यह अनूठा अंदाज़ बहुत आकर्षक है, कविता की तरह ही।

    ReplyDelete
  6. Beautiful and romantic creation !

    ReplyDelete
  7. हम इन्तजार करेंगे तेरा कयामत तक..
    खुदा करे के कयामत हो और तू आये...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर ....अंदाज -ए- वयां तारीफ के काबिल है ...आभार

    ReplyDelete
  9. वो पल कब आएगा?

    कविता और तस्वीर दोनों सुन्दर..

    ReplyDelete
  10. इस चीनी गुडिया ने इस क़दर बेक़रार कर रखा है आपको. उपेन्द्र बाबू! इंतज़ार बड़ा ज़ालिम होता है!

    ReplyDelete
  11. उपेन्द्र जी कभी तो वस्ल की रात आएगी। यकीन किजिए। चित्र ने तो मन मोह लिया।

    ReplyDelete
  12. ऐसा सुन्‍दर चित्र लगाओगे तो इंतजार ही करोगे भाई।

    ReplyDelete
  13. हम तो यही दुआ करते है कि आपका इंतजार जल्द ही खत्म हो , वैसे इंतजार का भी अपना अलग ही आनन्द है ।

    ReplyDelete
  14. लाजवाब चंद शब्दों मे सुन्दर रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  15. ओह...क्या सुन्दरता है.....

    कहाँ से यह नायब चित्र उठा लाये आप ????

    चित्र और पंक्तियाँ,दोनों ही मनोरम चित्ताकर्षक...

    ReplyDelete
  16. @ रंजना जी , आपका आभार......... चित्र तो गूगल महराज कि देन है . बस अपने शब्दों की उन पर चिप्पी लगा दी है. अंदाज पसंद आया इसलिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  17. upendra ji
    behad pasand aai aapki shyari v khoob surat chitra.
    intajaar me jo maja hai
    vo deedare -yaar me kahan
    yakeen rakhiye vo bahad haseen pal jaroor aayega--:)
    poonam

    ReplyDelete
  18. वाह... बेहतरीन ग़ज़ल अच्छा सृजन है ये

    ReplyDelete
  19. ऐसा ही होता रहा है सदियों से...
    ख़ूबसूरत रचना।

    ReplyDelete
  20. "समस हिंदी" ब्लॉग की तरफ से सभी मित्रो और पाठको को
    "मेर्री क्रिसमस" की बहुत बहुत शुभकामनाये !

    ()”"”() ,*
    ( ‘o’ ) ,***
    =(,,)=(”‘)<-***
    (”"),,,(”") “**

    Roses 4 u…
    MERRY CHRISTMAS to U…

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  21. इंतज़ार का मज़ा अपना ही मज़ा है ! "मर भी पर आंखें रही खुली, देखो हमारे इंत्ज़ार की हद " !

    ReplyDelete
  22. क्रिसमस की शांति उल्लास और मेलप्रेम के
    आशीषमय उजास से
    आलोकित हो जीवन की हर दिशा
    क्रिसमस के आनंद से सुवासित हो
    जीवन का हर पथ.

    आपको सपरिवार क्रिसमस की ढेरों शुभ कामनाएं

    सादर
    डोरोथी

    ReplyDelete