© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Saturday, July 24, 2010

दिल के टुकड़े

वह लोगों के बीच
रोज़ सुनाया करता था
जिनकी मुहब्बत के
चर्चे हज़ार
एक दिन कर गयी वो
उसके दिल के टुकड़े हज़ार
फिर बड़ी अदा से मुस्कराई
और बोली थी -
" दिल के कुछ टुकड़े
हो सके तो मुझे भी दे दो
बच्चे हमारे खेलेगे".

9 comments:

  1. हा हा ह!! मामू बना गईं!! गजब !!!

    ReplyDelete
  2. अच्छी विचारणीय कविता ...

    ReplyDelete
  3. kuch logo ki fitrat aisi hi hoti hai

    ReplyDelete
  4. sahi likha hai apne..par kya aurat varg hi aisa karti hai..jahan tak dekha jaye to yeh kaam purush varg ko bakhoobi aata hai...

    ReplyDelete
  5. shatakshi ji bahoot bahoot dhanyabad. ye sach hai ke us tarah ke log purush ho ya nari dono me paye jate hai aur unhe hi ishara karke ye kavita likhi gayee hai.ab kisi na kisi ko to pakadana hi tha kavita ke liye.

    ReplyDelete
  6. pahle bhi padi aaj phir padhi...
    achchi rachna hai

    ReplyDelete
  7. भावनाओं की पराकाष्ठा है…………॥बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  8. सानिया कह रही है कि भारत मामू बनने वाला है

    ReplyDelete

" न पूछो कि मेरी मंजिल है कहाँ, अभी तो सफ़र का इरादा किया है
ना हारूँगा मै ये हौंसला उम्रभर,किसी से नहीं खुद से ये वादा किया है"
.
.
.
आप का इस ब्लॉग में स्वागत है . आपके सुझावों और विचारों का मेरी इस छोटी सी दुनिया में तहे दिल से स्वागत है...