© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Saturday, October 9, 2010

साकी के नाम

एक

एक साकी ही तो था मेरा अपना कहलाने वाला
अब वह भी शराब मे पानी मिलाने लगा है
गम जो हम भुला लेते थे कभी पीकर शराब
अब
वो फिर से मुझे सताने लगा है । ।

दो

जिंदगी हुई कुछ इस तरह से बसर साकी
हम पीते गए तुम पिलाते गए
खूब छककर पिया खूब जमकर पिया
मगर गए तो फिर भी प्यासे गए

.

19 comments:

  1. वाह उपेन्द्र जी, सुंदर लिखा है आपने.

    गए तो प्यासे गए.....

    बढिया.

    ReplyDelete
  2. उपेंदर जी, साकी जानबूझकर मिलावट करता है..उससे आपका दुःख नहीं देखा जाता, जीवन का अमृत पानी के जईसा मिला देता है… अऊर प्यास तो वैसे भी अभी खतम नहीं होता है..जेतना पीते जाइए, प्यास ओतने बढता जाता है!! बहुत अच्छा लगा पढकर!!

    ReplyDelete
  3. i must say commendable work..how do you manage it in hindi..i would want some tips regarding how to do it....www.singhshradha.wordpress.com

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है!
    या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
    नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    मरद उपजाए धान ! तो औरत बड़ी लच्छनमान !!, राजभाषा हिन्दी पर कहानी ऐसे बनी

    ReplyDelete
  5. @ Shradha ji

    Thanks to appreciate me by coming on my blog. Actually i am not fully aware with wordpress, but in blogspot you just type hindi in english and automatically it will convert in Devanagari lipi. On net typing in hindi, you can download Cafe Hindi Unicode Typing Tool through net and install it. or just load hindi pitara toolbar in your browser through http://hindiblog.ourtoolbar.com

    ReplyDelete
  6. @ सलिल साहब..बिल्कुल सही फरमाया आपने
    @ राजभाषा हिंदी
    @ शताक्क्षी जी
    @ दीपक जी
    @ अनु जी

    आप लोंगों का हार्दिक आभार हौसला आफजाई के लिये.

    ReplyDelete
  7. thanks a lot Upen ji..actually its something similar that i do..i use google transliteration (http://www.google.com/transliterate/) to do the same and then I copy paste the post to my wordpress.I was surprised to see the full blog in hindi..Good one..You have got a follower in me.Keep up the good work...

    ReplyDelete
  8. उपेन्द्र जी , क्या खूब पंक्तियां लिखी हैं आपने ..बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्छी और संजीदा पंक्तियाँ लिखी हैं ..... उपेन्द्र जी

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  11. वाह साकी...खूब लिखा आपने..बधाई.

    ____________________
    'शब्द-सृजन..." पर लोकनायक जे.पी. जी की जन्म-तिथि पर आलेख.

    ReplyDelete
  12. क्या बात है !
    बहुत खूबसूरत !

    ReplyDelete
  13. बहुत उम्दा भावों को पिरोया है आपने!

    ReplyDelete
  14. चंद शब्दों में गहरी बात कहना कोई आपसे सीखे...बहुत अच्छी रचना...

    ReplyDelete