© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Tuesday, October 12, 2010

क्यों तुम जिंदा हो रावण

(चित्र गूगल साभार )


सदियों से तुम्हें हम
हर साल जलाते आये हैं
फिर भी क्यों तुम
जिंदा
हो रावण
अभी भी हमारे बीच में
कभी आतंकवाद
कभी अलगाववाद
कभी नक्सलवाद
कभी महंगाई
कभी भ्रष्टाचार
तो कभी किसी अन्य रूप में ।
आखिर बताओ तो सही हमें
उस अमृत का असल ठिकाना
बार बार मरने के बाद भी
जिससे तुम जिंदा होकर
फिर वापस आ जाते हो
हमारे बीच
क्योंकि इस बार हम तुम्हें
लौट कर वापस
नहीं आने देना चाहते।
रावण बोला-
'' तो इस साल पहले
अपने अंदर बैठे हुए
रावण को जलाओ
फिर राम बनकर
मुझे जला देना ।''

35 comments:

  1. कमाल की पंक्तियाँ रची हैं उपेन्द्रजी
    आखिरी चार पंक्तियों ने तो निशब्द कर दिया
    प्रासंगिक और प्रभावी रचना

    ReplyDelete
  2. उपेंद्र जी, बहुत ही उचित प्रस्न है यह अऊर उतना ही बिचित्र है उत्तर इस प्रस्न का.. दरसल हम रावन को बाहर देख रहे हैं, हर कोई अपने अंदर के रावन को खतम करे तो अपने आप रावन का दहन हो जाएगा!बहुत ही सुंदर कविता. षष्ठी पूजा की बधाई!!

    ReplyDelete
  3. नवोदय विद्यालय , जीयनपुर में पढ़ते थे तो वहां का मेला खूब देखते थे, यादें ताजा हो गईं.

    ReplyDelete
  4. बहुत हे बढिया........
    बहुत ही गहरी बात की है आपने कि पहले अंदर के रावण को मारो.........

    कहाँ मरा रावन - जिन्दा है हर इंसान में किसी न किसी रूप में.

    अच्छी कविता. और सुंदर चित्र

    ReplyDelete
  5. ठीक ही कहा है आपने। अपने अंदर के रावण को फले हम जलाएं।
    आंखें दे आईना दे
    लेकिन पहले चेहरा दे

    ReplyDelete
  6. बहुत सटीक बात ..सुन्दर रचना ..आत्मावलोकन के लिए प्रेरित करती हुई

    ReplyDelete
  7. bahut hi badhiya sandesh diya apne upendra ji ......sahi mayne mein hmein hi apne andar ke rawan ko maarna hoga...

    ReplyDelete
  8. सटीक बात कही आखिर मे…………जब तक अपने अन्दर के रावण का अन्त नही करेंगे हम तब तक रावण हर बार आता रहेगा और सताता भी रहेगा।

    ReplyDelete
  9. पहले अपने भीतर के रावन को जलाना होगा....सही बात। --सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  10. रावण अमर है ...अपुन लोग हर साल उसे जलाते हैं फिर जिन्दा कर देते है ...फिर जलाते है ....क्रम चलता रहता है ...पर अन्दर वाले को हम नहीं मार पाते ये तो सही बात है ....क्योकि हम उसे मारने का विचार ही नहीं करते है ... हेमशा जिन्दा रहेगा...

    ReplyDelete
  11. रावण इस वर्ष भी नही मरेगा... क्योंकि हमारे भीतर का राम ही मर चुका है.. अच्छी कविता..

    ReplyDelete
  12. रावण बोला-
    '' तो इस साल पहले
    अपने अंदर बैठे हुए
    रावण को जलाओ
    फिर राम बनकर
    मुझे जला देना ।''


    पहले अपने भीतर के रावन को जलाना होगा....सही बात।

    ReplyDelete
  13. bahut hi sateekbaat kahi hai aapne. sabse pahle hame apne andar baithe ravan ko jalana hoga.
    tabhi aage baat kuchh banegi.
    poonam

    ReplyDelete
  14. बहुत सही ..पहले अपने अंदर के राक्षस को मारना सीखें हम तब हमें रावण जलाने का हक होगा .
    प्रेरक रचना.

    ReplyDelete
  15. प्रियवर उपेन्द्र जी
    नमस्कार !
    बहुत अच्छी कविता लगाई है आपने
    "…तो इस साल पहले
    अपने अंदर बैठे हुए
    रावण को जलाओ
    फिर राम बनकर
    मुझे जला देना"

    बहुत ख़ूब !
    आपने तो इतनी जल्दी दशहरे की पोस्ट लगा दी । घर जा रहे हैं , संभव हो तो दशहरे पर मेरी पोस्ट भी देखने का प्रयास करें ।
    आपकी अनुपस्थिति बहुत खलेगी , लेकिन आपके लिए बहुत बहुत मंगलकामनाएं हैं … घर-परिवार के साथ हंसी ख़ुशी छुट्टियों का आनन्द लें ।

    दशहरे सहित दीवाली की अग्रिम शुभकामनाएं
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  16. तय है रावण की ज़िंदगी हर हर साल नये रूप में परिधान पहनता है जलने के पहले. पर राम केवल अभिनेता ही बनते हैं

    ReplyDelete
  17. @ मोनिका जी - रचना सराहने के लिए धन्यवाद
    @ सलिल साहब - षष्ठी पूजा की आपको भी बधाई!!
    @ कृष्ण कुमार जी- आप सही कह रहे है। पूरे देहात मे जीयनपुर जैसी मूर्ति मेले मे नहीं बनती थी

    @ दीपक जी- आप ठीक कहे रावण अभी भी कही न कही जिन्दा है
    @ मनोज जी - अपने अंदर के रावण को ही पहले जलाना होगा

    ReplyDelete
  18. @ संगीता जी @ आलोक जी @ शताक्षी जी @ बंदना जी@ अरुण जी @रजनी जी@ शिखा जी

    हौसला आफजाई के लिए आप लोंगो का धन्यवाद

    @ दिव्या जी@ एकलव्य जी
    आप लोंगों का पहली बार मेरे ब्लॉग पर आना हुआ। भविष्य मे भी यह उपकार बनाये रखियेगा.आभार

    ReplyDelete
  19. @ पूनम जी -सही कहा आपने. अब अपने अंदर के रावण को मरकर ही शायद हम कुछ पा सके।

    @ राजेंद्र जी -नमस्कार . दशहरे व दीवाली के लिए आपको भी शुभकामनायें। कविता को पसंद करने के लिए आभार।

    @ गिरीश जी- आपका कहना बिलकुल सही है । असल जिंदगी मे रावण के मुकाबले अब राम कही खो रहे है । यहाँ पधारकर अपनी राय व्यक्त करने के लिए आप सभी लोंगो का धन्यवाद।

    ReplyDelete
  20. बहुत सटीक बात ..सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  21. ब्लॉग को पढने और सराह कर उत्साहवर्धन के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सराहनीय प्रस्तुति
    हर युग में रावण के लिए एक राम की तलाश है।
    पर लगता है इस युग के राम को आजीवन वनवास है

    ReplyDelete
  23. bahut hi sunder rachana upendra ji........yadi har vyakti apne ander chhupe huye ravan ko maar de to sach me shayad es duniya ka swaroop hi badal jaye.......aur waise b sabse pehle hme apne ander ke ravan ko marna jaruri hai..........

    ReplyDelete
  24. बढ़िया लिखा है .....
    यहाँ भी आये , आपकी चर्चा है यहाँ
    http://malaysiaandindia.blogspot.com/2010/10/blog-post_13.html

    ReplyDelete
  25. बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
    या देवी सर्वभूतेषु शान्तिरूपेण संस्थिता।
    नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
    नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    साहित्यकार-6
    सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’, राजभाषा हिन्दी पर मनोज कुमार की प्रस्तुति, पधारें

    ReplyDelete
  26. बहुत अच्छी प्रस्तुति. आपकी कविता पर मुझे अपनी रावण पर लिखी कविता याद आ गयी. मेरे ही ब्लॉग से

    "अब से रावण नहीं मरेगा"

    कहते हैं, रावण व्यथित नहीं होता

    मैं, कैकसी-विश्वश्रवा पुत्र

    दसग्रीव

    सूर्पनखा सहोदर, मंदोदरी पति, लंकेश

    अपराधी हूँ ,

    हाँ! मैं अपराधी हूँ...

    पर मात्र एक

    अक्षम्य अपराध

    सीता हरण का

    पर यहाँ तो होता है

    प्रतिदिन

    न जाने कितनी ही सीताओं का अपहरण

    फिर दुस्श्शासन बन चीर हरण,

    करती हैं वो, मरण का

    रोज ही वरण

    एक अपराध का दंड मृत्यु

    सौ अपराध का दंड मृत्यु

    फिर क्यों ???

    मैं एक अपराध के लिए

    युग युगान्तरों तक जलूं

    मैं, दशकंधर सबने देखा है

    तुम सब कितने सर, किसने देखा है

    मैं, लंकेश, लंकापति, दशानन

    व्यथित हूँ !!!

    मैं रावण हूँ

    पर रामायण बदलने न दूंगा

    अब मैं रावणों के हांथों नही मरूँगा

    ये प्रण लेता हूँ

    अब न मरुँगा,

    अब न जलूँगा

    जाओ ढूंढ़ लाओ,

    मात्र एक राम मेरे लिए

    तब तक मैं यहीं प्रतीक्षारत हूँ

    मैं, कैकसी-विश्वश्रवा पुत्र

    दसग्रीव

    सूर्पनखा सहोदर, मंदोदरी पति, लंकेश

    अपराधी हूँ ,

    पर सिर्फ राम का.

    ReplyDelete
  27. @संजय जी @ अमित जी @आरती जी @हरवंश जी @राजभाषा हिंदी
    आप सभी लोंगो का हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  28. @ रचना जी ,
    इस कविता ने तो यहाँ और चार -चाँद लगा दिए। यहाँ पधारने के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  29. बहुत सही बात है ! रावण को अमृत तो हमारे अंदर से ही मिलते रहता है ... हमारे अंदर ही बैठा है राम और रावण ... अच्छाई और बुराई ...

    ReplyDelete
  30. उपेन्द्र जी ,
    दशहरे की छुट्टियों में दसहरा देखने गाँव जा रहे है ....हमें तो बरसों हो गए दसहरा देखे ....इधर तो होता नहीं यहाँ दुर्गा पूजा होती है ....बचपन में कभी देखा था जालंधर में वही याद है .......
    कविता पढ़ी .....
    ये रावण नहीं मरता ...
    न मरेगा .....
    मर गया तो हम किसे जलायेगे ....?

    ReplyDelete
  31. स्वदेश फिल्म की वो पंक्तियाँ याद आ गईं भाई जी- -
    ''मन से रावण जो निकाले राम उसके मन में हैं....
    पाप तज के देख रावण राम तेरे मन में हैं..''
    वैसे सच्चाई ही बयान की आपने.. फिर भी दशहरे की शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  32. सुन्दर सामयिक रचना !

    ReplyDelete

" न पूछो कि मेरी मंजिल है कहाँ, अभी तो सफ़र का इरादा किया है
ना हारूँगा मै ये हौंसला उम्रभर,किसी से नहीं खुद से ये वादा किया है"
.
.
.
आप का इस ब्लॉग में स्वागत है . आपके सुझावों और विचारों का मेरी इस छोटी सी दुनिया में तहे दिल से स्वागत है...