© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Sunday, August 7, 2011

हिना रब्बानी की मुस्कराहट और उनके चेलों का कारनामा

कुछ समय पहले कश्मीर के पुंछ सेक्टर में आतंकवादियों से मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए मेजर आकाश सिंह (courtesy:- Himalini Hindi Mgzn)
                                                                                                                                                    

पाकिस्तानी  आतंकवादियों  ने दो  भारतीय जवानों के सिर उनके धड़ से अलग कर दिए और अपने साथ में  सिर ले गए।इस नृशंस घटना से भारतीय सेना के अधिकारी भी हैरान हैं।'मेल टुडे' के मुताबिक घटना जुलाई के आखिरी हफ्ते की है जब कुपवाड़ा जिले में नियंत्रण रेखा के पास आतंकवादियों और भारतीय सेना के बीच मुठभेड़ हुई थी। इस बात की आशंका जाहिर की जा रही है कि आतंकवादियों ने 20 कुमाऊं रेजिमेंट के दो जवानों की हत्या करके उनके सिर बतौर वॉर ट्रॉफी अपने साथ ले गए। लेकिन सेना के अधिकारी इस घटना की पुष्टि नहीं कर रहे हैं क्योंकि उन्हें डर है कि इसका कश्मीर में आतंकवादियों से लोहा ले रहे दूसरे जवानों के मनोबल पर बुरा असर पड़ सकता है।पेट्रोलिंग पार्टी का हिस्सा रहा 19 राजपूत रेजिमेंट का एक अन्य जवान भी मुठभेड़ के दौरान शहीद हो गया था। 
                    सेना के अधिकारी दबी जुबान में कह रहे हैं कि कुमाऊं रेजिमेंट के दो जवानों के सिर धड़ से अलग कर दिए गए थे। उनके धड़ को भी विकृत कर दिया गया था।  शहीद जवानों की पहचान हवलदार जयपाल सिंह अधिकारी और लांस नायक देवेंद्र सिंह के रूप में की गई है। हालांकि, गोली से शहीद हुए तीसरे जवान के बारे में कोई जानकारी सामने नहीं आई है।जवानों का उनके पैतृक जिलों-पिथौरागढ़ और हल्द्वानी में अंतिम संस्कार कर दिया गया। 
                  अंतिम संस्कार के दौरान मौजूद उत्तराखंड पुलिस के अधिकारी ने इस बात की पुष्टि की कि शव ऐसी हालत में थे कि उनके परिवार या रिश्तेदारों को देखने की इजाजत नहीं दी गई। इस पुलिस अधिकारी का कहना है कि सेना की तरफ से मिली सूचना में कहा गया है कि गोलीबारी के दौरान इनके सिर धड़ से अलग हो गए। वहीं, लांस नायक देवेंद्र सिंह के चाचा ने भी इस बात को माना कि परिवारवालों को शहीद का शव देखने नहीं दिया गया। पुलिस अधिकारी ने कहा कि आतंकवादियों ने रॉकेट से चलने वाले ग्रेनेड से जवानों पर हमला किया और उनके सिर उड़ा दिए गए। 
                  उधमपुर में मौजूद उत्तरी कमांड के आधिकारिक प्रवक्ता राजेश कालिया ने कहा कि नियंत्रण रेखा के पास मौजूद फरकियां गली में आतंकवादियों ने घुसपैठ करने की कोशिश की थी, जहां तीन आतंकवादी मारे गए थे। जवानों के सिर काटने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस मामले में ब्योरा उपलब्ध नहीं है।खबरों के मुताबिक  इस बात की पुष्टि की गई है कि यह घटना कुपवाडा़ सेक्टर में 30 जुलाई को शाम 4.40 बजे तब घटी जब सेना की एंबुश पार्टी तीन ओर से घिर गई
                 यह घटना तकरीबन उसी दौरान हुई जब पाकिस्तान की विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार भारत के दौरे पर थीं और अपनी मुस्कराहटों व खुबसुरती से भारतीय मीडिया और नेताओ के दिलों में राज कर रहीं थी आपकी इस मुंह में राम बगल में छुड़ी  वाली अदा यह  देश  कब  समझेगा  मालूम नहीं मगर अपने वीर सपूतों को सलाम एक अपील मिडिया और मानव अधिकारों के हितों के लिए चिल पो..पो..करने वालों से की, कुछ दिन कहीं आप लोग पिकनिक मना आईये, यह देश ऐसी घटनाओं को बहुत जल्द  भूल जाने में माहिर  है

17 comments:

  1. सच में बहुत बहुत दुखद है... क्या करे कभी लगता है कि हम समय के हाथों बिल्ली बन गए है ..जिसके पास खम्बा नोचने के अलावा कुछ नहीं रह गया.... आतंकी अपना काम कर के चले जाते है ... और हम :(((

    ReplyDelete
  2. नृशंसता का सबक मिलना चाहिये।

    ReplyDelete
  3. हमारे नेताओं का तो सब्र चुकता नहीं, कहीं लोगों का सब्र न चुक जाये..और मीडिया की चुप्पी! वाह वाह..

    ReplyDelete
  4. दुखद घटना, हमारे सब्र का इम्तहान ले रही है :(

    ReplyDelete
  5. लाजवाब प्रासंगिक लेख....

    ReplyDelete
  6. नपुंसक लोग जब राज़ कर रहे हों - तो ऐसा ही होता रहेगा.

    ReplyDelete
  7. न वो सीखने को तैयार हैं,न हम सिखाने को।

    ReplyDelete
  8. उपेन्द्र बाबू!
    आज फेसबुक पर किसी ने लिखा था कि काठ की कुर्सी से चिपके रहने के कारण सभी काठ हो गए हैं..और काठ में धड़कने वाला दिल कहाँ मिलेगा!!

    ReplyDelete
  9. ऐसी बेहूदा और वीभत्स घटना के लिए सबक ज़रूरी है ......

    ReplyDelete
  10. बेहद शर्मनाक ..दुखद घटना..

    ReplyDelete
  11. शर्मसार करने वाली घटना और उसपर बनी चुप्पी बेहद निराश करती है !

    ReplyDelete
  12. शर्मसार ... ये देस्ध का दुर्भाग्य है की हम इन बातों को सह रहे हैं कुछ कर नहीं प रहे ...

    ReplyDelete
  13. ye napunsako ki sarkaar hai!
    afsos karne ke alawa koi chara nhi hai!

    ReplyDelete
  14. हमने सहा है हम सह रहे हैं और हम सहते रहेंगे ।

    ReplyDelete

" न पूछो कि मेरी मंजिल है कहाँ, अभी तो सफ़र का इरादा किया है
ना हारूँगा मै ये हौंसला उम्रभर,किसी से नहीं खुद से ये वादा किया है"
.
.
.
आप का इस ब्लॉग में स्वागत है . आपके सुझावों और विचारों का मेरी इस छोटी सी दुनिया में तहे दिल से स्वागत है...