© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Wednesday, June 9, 2010

राज

वो पूछते हैं मुझसे
मेरी गजलों में
छिपे दर्द का राज
उन्हें ये नहीं मालुम
उन्हीं का था
दिया हुआ जख्म
जो इस दिल में
रोज होता रहा इकठ्ठा
वही एक दिन बनकर
दो बूंद आंसू
कागज पर गिर पडा
फिर गजल बन गई ।।

( प्रकाशित 9 नव. 1997 जलते द्वीप)

3 comments:

  1. दो बूंद आंसू
    कागज पर गिर पडा
    फिर गजल बन गई ।।

    kya baat hai..wah nahi kahungi dard ki abhivaykti hai..jindagi ko najdeek se dekh aaye hai aap hai na??

    gahri rachnaye

    ReplyDelete
  2. सुबह से शाम तक की,
    भाग दोड़ में, भूल जाता है,
    अपने आप को.
    फैक्ट्री में काम करने वाले
    मजदूरों के भीड़ में,
    खो जाता है, उसका वजूद.
    फिर .......
    पता नहीं कब,
    बचपन से जवानी
    और .......
    जवानी से बुढ़ापा
    तक की सफ़र,
    पूरा कर लेता है, आदमी.

    ReplyDelete

" न पूछो कि मेरी मंजिल है कहाँ, अभी तो सफ़र का इरादा किया है
ना हारूँगा मै ये हौंसला उम्रभर,किसी से नहीं खुद से ये वादा किया है"
.
.
.
आप का इस ब्लॉग में स्वागत है . आपके सुझावों और विचारों का मेरी इस छोटी सी दुनिया में तहे दिल से स्वागत है...