© कापीराइट

© कापीराइट
© कापीराइट _ सर्वाधिकार सुरक्षित, परन्तु संदर्भ हेतु छोटे छोटे लिंक का प्रयोग किया जा सकता है. इसके अतिरिक्त लेख या कोई अन्य रचना लेने से पहले कृपया जरुर संपर्क करें . E-mail- upen1100@yahoo.com
आपको ये ब्लाग कितना % पसंद है ?
80-100
60-80
40-60

मेरे बारे में

मेरे बारे में
परिचय के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें.

Saturday, September 11, 2010

अपनी शादी मे लिखी एक कविता




एक कवि की शादी और कविता नहीं । तो सबके बहुत कहने पर मैंने अपनी शादी के लिए जो १८ जून १९९९ को थी, ये कविता उस समय लिखी थी जो सब घरातियों और बारातियों को उपहार स्वरुप एक कार्ड पर छपवाकर दी गई। आज ११ साल बाद पुराने कागजों के बीच ये कार्ड मुझसे फिर उलझ गया और मेरे दिमाग में ये फितूर समां गया की इसे ब्लॉग पर डाल दूं । तो आप लोग गुस्ताखी माफ़ करियेगा और इसलिए भी की कविता और वो भी अपने ऊपर और अपनी ही शादी पर थोड़ा मुश्किल है ना ....................

है आज भला क्या बात नई क्यों हँसते चाँद सितारे है
क्यों रंग है फूलों पर छाया क्यों करते आज इशारे है
क्यों आज हवा भी नाच रही क्यों महक महक कर चलती है
क्या इसने कुछ पी रखी है जो बहक बहक कर चलती है॥

उपेन्द्र के शोभित मस्तक पर सेहरा कुछ ऐसा दमका है
जैसे बदल के घूँघट से कोई चाँद ख़ुशी का चमका है
सेहरे ने इसके मुखड़े को कुछ नूर में ऐसा घेरा है
फिर बिन्दू ने अपना सेहरे की तरफ मुंह फेरा है।।

सेहरे के अंदर गुंथे हुए कुछ फर्ज भी है अरमान भी है
सेहरे के महकते फूलों में इन दोनों के लिए वरदान भी है
इक गृहस्थ जीवन का राजा है एक गृहस्थ जीवन की रानी है
दोनों को आपस में मिलकर एक प्रेम की ज्योति जलानी है ॥

पिता सदाफल चाचा रामप्यारे ,रामदुलारे ऐसे आते हैं
रामश्रृंगार और रामाश्रय अपना शुभ स्नेह लुटाते है
राजेंद्र महेंद्र विकाश देवेन्द्र सोनू ज्ञानू बिट्टू छोटू फूले नहीं समाते है
भाई के सिर पर सेहरा देखकर खुशियाँ खूब मानते है ॥

इस परम सुहानी बेला में शुचि- शुभ्र ह्र्दय मिल रहें है आज
भव-सागर नैया खेने को दो प्राणी उत्तर रहें है आज
सब लोग भी उनको आशीष दे रहे है मनमानी
उन्नति पथ पर ये चले सदा और कीर्ति बड़े आसमानी॥

23 comments:

  1. बहुत सुन्दर मित्र , सुन्दर भावो से सजी हुई इस सुन्दर रचना की जीतनी तारीफ़ करो . कम ही होगी .....आपकी इस रचना को पढ़कर बहुत अच्छा लगा ...लाजवाब , शब्दों के इस सुहाने सफ़र में आज से हम भी आपके साथ है , इस उम्मीद से की शायद सफर कुछ आसान हो

    राजेंद्र मीणा, 'अथाह...'से

    dhnyvaad

    ReplyDelete
  2. bahot-bohot dhanyawaad hame bhi yah uphaar pradaan karne ke liye... aapko dher saari unnati evam khushiyaan miltee rahe, hamari yahi dua hai...

    ReplyDelete
  3. आपके विवाह की हार्दिक सुभकामनाओं सहित आपका हार्दिक धन्यवाद्,
    आपने मुझे इतनी सुंदर रचना को पड़ने का अवसर प्रदान
    किया
    बहुत सुंदर
    बहुत प्रसन्नता हुई

    ReplyDelete
  4. waah upendra ji kya shabdon me piroye hain aapne apne sunder bhavo ko behad sunder lagi sare shbd vinyas

    ReplyDelete
  5. dil prasnn ho gaya padhkar...likhte rahiye yunhi!

    ReplyDelete
  6. bhaut achchi rchana..dua hai aapka sath haste khlte uhi sadaa bana rahe

    ReplyDelete
  7. सारे जज्बात उड़ेल के रख दिए आपने तो.. बहुते खूब भाई जी..

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी कविता।हिन्दी, भाषा के रूप में एक सामाजिक संस्था है, संस्कृति के रूप में सामाजिक प्रतीक और साहित्य के रूप में एक जातीय परंपरा है।

    देसिल बयना – 3"जिसका काम उसी को साजे ! कोई और करे तो डंडा बाजे !!", राजभाषा हिन्दी पर करण समस्तीपुरी की प्रस्तुति, पधारें

    ReplyDelete
  9. बाप रे ! इतने महानुभाव.......

    @ राजेन्द्र मीणा जी _ इस साथ के लिए धन्यबाद.

    @ पूजा जी_ इस दुआ के लिए हार्दिक आभार

    @ Its me_ जी शुक्रिया

    @ आदित्य जी_ शादी की शुभकामनायें तहे दिल से स्वीकार धन्यबाद

    @ रजनी जी_ शब्द विन्यास पसन्द आये...धन्यबाद

    @ आभा जी _ आपको यहां देखना काफी सुकून दे गया आते रहिये... शुक्रिया

    @ सखी जी_ सराहने के लिये ध्न्यबाद

    @ दीपक मसाल जी_ आपका बहुत बहुत धन्यबाद

    @ राजभाषा हिन्ही_ तारीफ के लिये शुक्रिया

    @ आलोक ख्ररे जी_ शुक्रिया हौसला आफजाई के लिये

    @समीर साहब _ आपको यहां देखकर सचमुच मेरी उडान को कुछ नये पंख मिल गये हो..बहुत बहुत धन्यबाद

    ReplyDelete
  10. Bahut Umda Upendra Ji ...........Sach me bahut kathin kamm hota hai apne uper likhna .pr aapne Bahut hi Sunderta se Shadi jaise Ati Mahatvpurn Programme ko Itne Acche Se pesh Kiya ..........Badhai ..............

    ReplyDelete
  11. Ati sunder rachna Upendra ji ati sunder..........jis sunder tareeke se aapne bhawo ko panktiyon me piroya hai uski jitni bhi taareef ki jaye kam hai......ati sunder

    ReplyDelete
  12. Aapk likhte achcha hain

    Kavita aapki achchi lagee

    Apne upar woh bhi shadi par wah ! kya baat hai !

    really nice

    ReplyDelete
  13. वाह अपनी शादी में भी कविता ! :)

    ReplyDelete
  14. मैकया जी, मेरी तो डैथ ही हो गयी!
    बाई गोड.... बहुत अच्छे!
    भाई... ये केवल आप ही पढ़ें: अपनी भावी पत्नी को उपहार स्वरुप देने के लिए एक कविता मैंने भी रची है!
    जब तक ये मौका नहीं मिलता.... तब तक: बैचलर पोहा!!!
    हा हा हा हा हा हा!!!!!!
    शुभ कामनाएँ!
    आशीष

    ReplyDelete
  15. ni:sandeh sare bhaav hai kavita mein

    bhabhi ko sunate rahiye bich bich mein .
    aisa lagega ki kal hi shadi hui hai

    ReplyDelete
  16. उपेन्द्र जी, ताजुब होता है - आप शादी से पहले भी कवि थे - और शादी के बाद भी कविता लिख रहे हैं..........

    साधुवाद.

    ReplyDelete